SAIL, आरएसपी में नियुक्‍त 61 नए प्रबंधन प्रशिक्षु तकनीकी के लिए अधिष्ठापन कार्यक्रम आयेाजित

Spread the love

राउरकेला। सेल, राउरकेला इस्पात संयंत्र के ज्ञानार्जन एवं विकास विभाग में 10 जुलाई, 2024 को आयोजित एक अधिष्ठापन कार्यक्रम में खान और सिरेमिक स्ट्रीम के लिए 61 प्रबंधन प्रशिक्षु (तकनीकी) {एमटीटी) महारत्न कंपनी सेल में शामिल हुए। आर.एस.पी. के निदेशक प्रभारी,  अतनु भौमिक और सेल के निदेशक (कार्मिक)  के.के.सिंह मंच पर उपस्थित थे, जबकि सेल बोर्ड के अन्य सदस्य वर्चुअल मोड पर कार्यक्रम में शामिल हुए।

नए प्रशिक्षुओं को शुभकामनाएँ देते हुए निदेशक प्रभारी (भिलाई इस्पात संयंत्र), अनिर्बान दासगुप्ता ने अपने संबोधन में कहा कि आर्थिक विकास में इस्पात का महत्वपूर्ण योगदान है और इस्पात उद्योग का विकास अनिवार्य है।

निदेशक (वाणिज्यिक),  वी.एस. चक्रवर्ती ने कहा कि, सेल नए विचारों और सोच को अपनाता है और आशा व्यक्त करते हुए उन्होंने प्रबंधन प्रशिक्षुओं से इस्पात उत्पादन को लागत प्रभावी बनाने की दिशा में काम करने का आह्वान किया, ताकि निवल लाभ में सुधार लाया जा सके। आर.एस.पी. के प्रभारी निदेशक अतनु भौमिक ने पुरानी यादें ताजा करते हुए सेल में एम.टी.टी. के रूप में शामिल होने के अपने अनुभव को साझा किया। उन्होंने एम.टी. को इस्पात की तरह लचीला, मजबूत बनने की सलाह दी, ताकि समय आने पर गतिशील कारोबारी माहौल के अनुकूल खुद को ढाल सकें। 

दुर्गापुर इस्पात संयंत्र तथा इस्को इस्पात संयंत्र के निदेशक प्रभारी श्री बी.पी. सिंह ने सेल की खदानों में लगभग 20 वर्षों तक काम करने की अपनी यादें साझा कीं तथा कहा कि सेल सक्षम तथा प्रतिबद्ध व्यक्तियों को कंपनी के शीर्ष पदों तक पहुँचने का अवसर प्रदान करता है। निदेशक (वित्त),  ए.के. तुलसियानी ने पिछले तीन वर्षों में सेल के वित्तीय प्रदर्शन को सूचीबद्ध किया तथा देश की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि में इस्पात के महत्व को भी रेखांकित किया। 

सेल के निदेशक (कार्मिक), के.के.सिंह ने प्रशिक्षुओं को आश्वस्त किया कि उन्होंने सही निर्णय लिया है तथा प्रशिक्षुओं का परिवार के सदस्य की तरह पूरा ख्याल रखा जाएगा। भारत की ऐतिहासिक टी-20 विश्व कप जीत का उदाहरण देते हुए  सिंह ने प्रशिक्षुओं से नियमित एवं कठोर प्रशिक्षण के माध्यम से आत्मविश्वास की गुणों को विकसित करने का आग्रह किया। 

सेल के निदेशक (तकनीकी, परियोजनाएँ एवं कच्चा माल), श्री ए.के.सिंह ने कहा कि प्रशिक्षु सही समय पर सही जगह पर हैं, जब आर.एस.पी. एक ब्लास्ट फर्नेस को बंद करने तथा दो फर्नेस से समान मात्रा में हॉट मेटल का उत्पादन करने का उत्कृष्ट कार्य कर रहा है। बोकारो स्टील प्लांट के निदेशक प्रभारी,  बी.के.तिवारी ने कहा कि जब भारत 2047 तक विकसित भारत के लिए तैयारी कर रहा है, तो प्रशिक्षुओं के पास राष्ट्र के इस सपने को साकार करने में योगदान देने के लिए 2047 तक 23  महत्वपूर्ण वर्ष हैं। सेल के मुख्य सतर्कता अधिकारी, एस.एन.गुप्ता ने कहा कि सेल का हैप्पीनेस इंडेक्स काफी ऊँचा है, क्योंकि यह विकास के अवसरों के साथ-साथ कार्य-जीवन संतुलन का सही तालमेल प्रदान करता है। मुख्‍य महा प्रबंधक (मानव संसाधन – ज्ञानार्जन एवं विकास), सुश्री राजश्री बनर्जी ने स्वागत भाषण दिया।

इस अवसर पर एक परिचर्चा सत्र भी आयोजित किया गया, जिसमें श्री भौमिक और श्री सिंह ने प्रबंधन प्रशिक्षुओं के विभिन्न प्रश्नों के उत्तर दिए।कार्यक्रम की शुरुआत राष्ट्रगान और दीप प्रज्ज्वलन के साथ हुई, जिसके बाद जनसंपर्क विभाग द्वारा तैयार ‘सेल की अगली पीढ़ी का स्वागत’ पर एक लघु वीडियो दिखाया गया। सहायक प्रबंधक, (एच.एस.एम.-2), सुश्री बी.भवानी जो 2023 में एम.टी.टी. के रूप में आर.एस.पी. में शामिल हुईं थी उन्‍होंने, ने एक प्रस्तुति के माध्यम से पिछले एक वर्ष के अपने अनुभव साझा किए। वरिष्ठ प्रबंधक (मानव संसाधन), सुभेंदु गरुड़ ने एम.टी. के स्वागत में एक चिरप्रतिष्ठित गीत प्रस्तुत किया। कार्यक्रम के दौरान एक प्रेरक वीडियो भी दिखाया गया। महा प्रबंधक (मानव संसाधन – ज्ञानार्जन एवं विकास),  एच.पति ने औपचारिक धन्यवाद ज्ञापित किया। एम.टी.टी. (खनन),  शुभ शर्मा और एम.टी.ए. (एच.आर.), सुश्री दिव्या साहू ने समारोह का संचालन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.